मार्क ज़ुकरबर्ग की जीवनी - Mark Zuckerberg Biography in Hindi


{Biography of Mark Zuckerberg in Hindi} फेसबुक बनाने वाले व्यक्ति मार्क ज़ुकरबर्ग की जीवनी Mark Zuckerberg Biography in Hindi Story : दुनिया में वैसे तो रोजाना लाखों लोग जन्म लेते हैं लेकिन कुछ लोग दुनिया बदलने के लिए ही पैदा होते हैं उनमे से एक नाम है Mark Zuckerberg का | मार्क जुकरबर्ग (Mark Zuckerberg) एक ऐसा ही नाम है जिन्होंने अपने जीवनकाल में ऐसी ऊंचाइयों को छुआ है जहाँ पहुँचना एक आम व्यक्ति के लिए स्वपन्न के सामान है। 


मार्क ज़ुकरबर्ग की जीवनी - Mark Zuckerberg Biography in Hindi

आज के समय में फेसबुक के मालिक मार्क जुकरबर्ग (Mark Zuckerberg) युवाओं के लिए एक प्रेरणा हैं लोग उनके जैसा बनना चाहते हैं तो आइये जानते है Mark Zuckerberg बारे में कुछ Interesting facts in hindi में |

Mark Zuckerberg Biography in Hindi

फेसबुक मालिक मार्क ज़ुकरबर्ग का पूरा नाम Mark Elliot Zuckerberg है इनका जन्म 14 मई सन् 1984 में वाइट प्लेन्स, न्यू यॉर्क शहर में हुआ था उनके पिता एडवर्ड ज़ुकरबर्ग (Edward Zuckerberg) एक दन्त चिकित्सक थे जबकि उनकी माँ करेन केम्प्नेर (Keren Kempner)  मनोचिकित्सक थी आपको बता दे की साल 2016 में उनके पास $48.2 billion की संपत्ति है और ये बात तो जगजाहिर है कि मार्क दुनिया के सबसे युवा बिलिनेयर में से भी एक हैं मार्क की कहानी बहुत ही interesting है, आज हम जानेंगे कि कैसे एक युवा लड़के ने एक वेबसाइट बनायीं? और कैसे वो बना दुनिया की सबसे बड़ी वेबसाइट फेसबुक के मालिक? तो आइये जानते है |


Mark Zuckerberg Life History in Hindi

मार्क जुकरबर्ग  को बचपन से ही कंप्यूटर और इंटरनेट का बहुत शौक था छोटी सी उम्र से ही वो कम्प्यूटर के प्रोग्राम लिखने लगे थे। उनके पिता उनको प्रोग्रामिंग करने में बहुत मदद करते थे हालांकि मार्क बहुत तेज दिमाग वाले व्यक्ति थे। इसीलिए पिता को अपने बैठे मार्क ज़ुकरबर्ग के लिए एक कम्प्यूटर टीचर बुलाना पड़ा जो मार्क को रोजाना कम्प्यूटर प्रोग्रामिंग सिखाया करता था। मार्क की तेज बुद्धि का अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि छोटी से उम्र में ही मार्क अपने कंप्यूटर टीचर को भी फेल कर दिया करते थे। उनके अनुभवी टीचर उनकी बातों का जवाब नहीं दे पाते थे।

हाई स्कूल में मार्क ने मैथ्स और फिजिक्स में कई अवार्ड भी जीते थे। हाई स्कूल की पढाई के दौरान ही मार्क ने एक कंप्यूटर प्रोग्राम बनाया जिसका नाम  “Zucknet”, था  ये एक ऐसा सॉफ्टवेयर था जिससे मार्क घर बैठे हुए ही दुकान पर बैठे पिता से बात कर लेते थे। यही नहीं जिस उम्र में लोग कम्प्यूटर गेम चलाना सीखते हैं, उस उम्र में मार्क ज़ुकरबर्ग कम्प्यूटर गेम्स बनाते थे।

जब उन्होंने हार्वर्ड यूनिवर्सिटी में एडमिशन लिया तो वहां भी मार्क एक टॉपर छात्र थे और लोगों के बीच “Programming Expert”  के नाम से मशहूर थे। यहीं पर उन्होंने “Course Match” नाम का एक सॉफ्टवेयर बनाया जो लोगों को अपनी रूचि के अनुसार सही कोर्स select करने में मदद करता था।


फेसबुक की कहानी
मार्क ज़ुकरबर्ग ने जब फेसबुक की वेबसाइट बनायीं थी तब वे मात्र 19 साल के थे कॉलेज के दिनों में “Facebooks”  नाम की एक बुक हुआ करती थी जिसमें कॉलेज के सभी स्टूडेंट्स के फोटो और नाम लगे हुए थे। ऐसे ही कुछ सोचकर मार्क जुकरबर्ग ने एक “Facemash” नाम की वेबसाइट बनाई। इस साईट की खास बात ये थी कि इस वेबसाइट में कॉलेज की लड़कियों के फोटो आते थे और उनकी तुलना की जाती थी कि कौन ज्यादा खुबसूरत है।

ये वेबसाइट कॉलेज के स्टूडेंट्स में बहुत प्रसिद्ध हुई लेकिन कॉलेज वालों ने और कुछ लड़कियों ने इसे आपत्तिजनक बताया और इसका विरोध भी किया। सबसे मजेदार बात इस वेबसाइट में ये थी इस वेबसाइट के लिए लड़कियों की फोटो इकठ्ठा करने के लिए मार्क ने हार्वर्ड यूनिवर्सिटी की वेबसाइट हैक की थी जो उस समय की सबसे पावरफुल वेबसाइट मानी जाती थी। इसके लिए हार्वर्ड वालों ने मार्क को बहुत डांटा भी क्यूंकि ये वेबसाइट इतनी ज्यादा पॉपुलर हो गई थी कि हार्वर्ड का सर्वर डाउन हो जाता था।

सन् 2004 में मार्क ज़ुकरबर्ग ने एक वेबसाइट बनायीं TheFacebook  जो www.thefacebook.com डोमेन पर चलती थी। ये वेबसाइट अभी तक केवल हार्वर्ड में ही फेमस थी लेकिन धीरे धीरे ये वेबसाइट दूसरे कॉलेज में भी पसंद की जाने लगी। मार्क और उसके अन्य दोस्त (Eduardo Saverin, Andrew McCollum, Chris Hughes and Dustin Moskovitz) इन लोगों ने मिलकर इस वेबसाइट का प्रचार पूरे US के कॉलेजों में करना शुरू किया। ये वेबसाइट बहुत ज्यादा तेजी से पॉपुलर हो रही थी।

कुछ समय तक ये वेबसाइट केवल कॉलेज के स्टूडेंट्स तक ही सिमित थी लेकिन कुछ समय बाद ये दुनियाभर में पॉपुलर होने लगी तो मार्क ने अपनी पढाई को बीच में ही छोड़ देने का फैसला किया और इस तरह मार्क ने कॉलेज छोडकर अपनी टीम के साथ पूरी मेहनत के साथ इस वेबसाइट पर काम करना शुरू कर दिया और वर्ष 2005 में ये “TheFacebook” नाम को बदलकर “Facebook” रख दिया गया | 

साल 2006 तक फेसबुक पर लाखों बिजनिस पेज और लाखों प्रोफाइल बन चुके थे और देखते ही देखते फेसबुक इंटरनेट पर बहुत ज्यादा मशहूर हो गया था 2006 में जैसे ही फेसबुक पर 50 करोड़ ट्रैफिक पुरे हुए तो याहू ने फेसबुक को खरीदने को 1 अरब डॉलर का ऑफर दिया पर मार्क ज़ुकरबर्ग ने इस ऑफर को ठुकरा दिया | वर्ष 2007 में मार्क ने फेसबुक प्लेटफार्म की घोषणा की जिसके कारण पुरे विश्वभर से 8 लाख से भी अधिक डेवलपर फेसबुक से जुड़ें उनमे से कुछ बड़े नाम थे जैसे माइक्रोसॉफ्ट, अमेज़न,रेड बुल, वाशिंगटन पोस्ट, दिग्ग आदि |

अब वो समय आ गया था जब फेसबुक पूरी विश्व भर में राज करने वाली थी और 2011 तक ये वेबसाइट दुनिया की सबसे बड़ी वेबसाइट बन चुकी थी

Mark Zuckerberg on Magazines
2010 में टाइम मैगज़ीन ने मार्क जुकरबर्ग को दुनियां के टॉप 100 अमीर और प्रभावशाली लोगों में शामिल किया जबकि वैनिटी फेयर मैगज़ीन में सुचना युग के सबसे प्रभावशाली लोगों में उन्हें प्रथम स्थान पर जगह मिली थी

साल 2012 में मार्क ज़ुकरबर्ग ने अपनी प्रेमिका Prisilla Chan से विवाह कर लिया आज उनकी दो बेटीयाँ है उनकी दोनों बेटियों का नाम Maxima Chan Zuckerberg और August Chan Zukeckerg है

आपको बता दें की सितम्बर 2015 में मार्क ज़ुकरबर्ग, भारत के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी से भी मिले थे जिसमे उन्होंने इन्टरनेट को बढ़ावा देने के लिए बहुत सारी बातें भी की | आज फेसबुक से पूरी दुनिया वाखिफ़ है Facebook की सफलता का पूरा श्रेय Mark Zuckerburg और उनकी पूरी टीम को जाता है मार्क ज़ुकरबर्ग पर एक फिल्म भी बन चुकी है जिसका नाम “The Social Network” था  

हम आशा करते है आपको मार्क ज़ुकरबर्ग की जीवनी Mark Zuckerberg Biography in Hindi में अवश्य पसंद आई होगी |

Read also
मार्क ज़ुकरबर्ग की जीवनी - Mark Zuckerberg Biography in Hindi मार्क ज़ुकरबर्ग की जीवनी - Mark Zuckerberg Biography in Hindi Reviewed by Admin on 11:26 PM Rating: 5

No comments:

Powered by Blogger.