Computer Memory Kya hai (Types of Computer Memory in Hindi)


कंप्यूटर मेमोरी क्या है (Computer memory in Hindi) : Computer Memory हमारे मस्तिष्क की तरह होता है जिस तरह मनुष्य में कुछ कार्यो को संग्रहित (Store) या याद रखने की क्षमता होती है उसी प्रकार Computer में Data को याद रखने के लिए मेमोरी (Memory) होती है यह एक चिप की तरह होती है जिसमे डाटा स्टोर होता है मेमोरी को इकाईयों में बाटा गया है चलिए जानते Computer Memory क्या है? What is Computer Memory in Hindi.  
computer memory in Hindi

Computer मेमोरी की इकाईया (Computer memory units)

Bit: बिट का मतलब Binary Digit होता है यह दो अंको या 0 व् 1 का बना होता है और कंप्यूटर में डाटा का प्रवाह बाइनरी दिगिट्स में ही होता है |
Nibble: 4 Bit का समूह मिलकर एक Nibble बनाता है जिसे Nibble कहा जाता है |
Byte: 8 Bit का समूह मिलकर 1 Byte बनाता है |
1 bit = 0, 1
4 bit = 1 Nibble
8 bit = 1 byte
1000 byte = 1 Kilo byte
1024 KB = 1 Mega Byte
1024 MB = 1 Giga Byte
1024 GB = 1 Tera Byte
1024 TB = 1 Peta Byte
1024 PB = 1 Exa Byte
1024 EB = 1 Zetta Byte
1024 ZB = 1 Yotta Byte


कंप्यूटर मेमोरी के प्रकार (Types of Computer Memory)

कंप्यूटर मेमोरी को मुख्यतया दो भागो में बाटा गया है
1. प्राइमरी मेमोरी (Primary Memory)
2. सेकंड्री मेमोरी (Secondry Memory)

1. Primary Memory
प्राइमरी मेमोरी को Main Memory या Volatile मेमोरी भी कहा जाता है यह कंप्यूटर की टेम्पररी मेमोरी होती है जिसमे डाटा स्टोरेज और instructions कंप्यूटर के पॉवर on रहने तक ही स्टोर रहती है यदि कंप्यूटर फाइल सेव होने से पहले बंद कर देते है तो आपका डाटा यानी वह फाइल प्राइमरी मेमोरी दे अपने आप डिलीट हो जाता है यह कंप्यूटर की इंटरनल मेमोरी होती है उदहारण के लिए Ram और Rom.

RAM:- Ram का पूरा नाम Random Access Memory है यह कंप्यूटर की प्रमुख मेमोरी होती है यह कंप्यूटर सिस्टम की Read और Write मेमोरी कहलाती है यह निम्न प्रकार की होती है जैसे SRAM, DRAM, SDRAM आदि |

ROM:- ROM का पूरा नाम Read Only Memory है और यह एक Non-Volatile Memory है यह कंप्यूटर की परमानेंट मेमोरी होती है इसमें डाटा स्टोरेज और प्रोग्राम्स परमानेंटली स्टोरी होती है रोम मेमोरी को केवल CPU द्वारा ही पड़ा जा सकता है तथा इसमें कोई भी परिवर्तन नहीं किया जा सकता है यह निम्न प्रकार की होती है जैसे PROM, EPROM, EEPROM आदि

Cache Memory:- इस मेमोरी को CPU मेमोरी भी कहा जाता है यह एक प्रकार की RAM ही होती है परन्तु कंप्यूटर का माइक्रोप्रोसेसर एक नार्मल रेम से कैश मेमोरी को तेजी से एक्सेस करता है |

2. Secondary Memory:-   
Secondary Memory का इस्तेमाल डाटा और प्रोग्राम को स्थाई रूप से स्टोर करने के लिए किया जाता है यह Non-Volatile Memory कहलाती है क्योकि कंप्यूटर का पॉवर ऑफ होने पर भी स्टोर किया हुआ डाटा सुरक्षित रहता है यानी की सेव किया हुआ डाटा नष्ट नहीं होता है यह External या Permanent Memory होती है यह निम्न प्रकार की होती है हार्ड डिस्क (HardDisk), फ्लॉपी डिस्क (Floppy Disk), CD (Compact Disk), DVD () Digital Video Disk), Memory Card (Synchronous Disk), Flash Drive (Pen Drive), Blu Ray Disk, External Hard Disk आदि |

तो अब आप समझ गए होंगे की कंप्यूटर मेमोरी क्या है (Computer Memory in Hindi) और कितने प्रकार की होती है (Computer Memory Types in Hindi). अगर आप इसी तरह की जानकारी प्राप्त करना चाहते है तो आज है हमारे वेबसाइट के न्यूज़लैटर को सब्सक्राइब कर लीजिये ताकि आपको नए अपडेट मिलते रहे |

इन्हें भी पढ़े:-


      

Comments