Mutual Fund Kya Hai कितने प्रकार के होते है


हेल्लो दोस्तों आज की इस पोस्ट हम चर्चा करने वाले है की Mutual Fund क्या होता है म्यूच्यूअल फण्ड कैसे काम करता है दोस्तों आपने म्यूच्यूअल फण्ड के बारे में किसी अख़बार, टेलीविजन या इन्टरनेट पर जरुर सुना होगा आजकल फाइनेंस के क्षेत्र में म्यूच्यूअल फण्ड बहुत अधिक पोपुलर हो रहा है इसका जीता जागता उदहारण है टेलीविजन जहा पर आप म्यूच्यूअल फण्ड से सम्बन्धित कई तरह के विज्ञापन देखते होंगे यदि आप किसी फाइनेंसियल इन्वेस्टर या एजेंट से मिलते होंगे तो वो आपको म्यूच्यूअल फण्ड में इन्वेस्ट करने की सलाह जरुर देता होगा और इसी दौरान आपके मन में कहीं न कहीं सवाल जरुर उठता होगा की Mutual fund क्या होता है  

इसमें इन्वेस्ट करने से आपको क्या फायदे और नुकसान हो सकते है या आपको म्यूच्यूअल फण्ड में इन्वेस्टमेंट करनी चाहिए या नहीं | इन्ही सवालों के जवाब आपको इस पोस्ट में पढने को मिल जायेंगे और आप निर्णय ले पाएंगे की आपको म्यूच्यूअल फण्ड में इन्वेस्टमेंट करनी चाहिए या नहीं तो चलिए म्यूच्यूअल फण्ड के बारे में डिटेल्स से जानते है |


Mutual Fund क्या है कैसे काम करती है

Mutual Fund जैसा की नाम से ही पता चलता है यह एक फण्ड (संग्रह) होता है म्यूच्यूअल फण्ड बहुत सारे इन्वेस्टर के द्वारा बनाया गया फण्ड होता है जिसमे सभी इन्वेस्टर का लक्ष्य अपने पैसों को इन्वेस्ट करके अच्छा रिटर्न्स कमाना होता है यह इन्वेस्टमेंट शेयर, डेब्ट सिक्यूरिटी, मनी मार्किट सिक्यूरिटी के कॉम्बिनेशन में हो सकता है

आईये इसे एक उदाहरण से समझने की कोशिश करते है
मान लीजिये मार्किट में एक प्रोडक्ट लांच हुआ है जिसकी कीमत 1000 रूपए है जब एक ही आदमी इस 1000 रूपए के प्रोडक्ट को नहीं खरीद पाता है तब इसकी कीमत को यूनिट यानि हिस्सों में बांटा जाता है अब मान लीजिये इस प्रोडक्ट को 100 यूनिट में बांटा गया और आपके पर मात्र 10 रूपए ही है तो आप इसमें अपना 10 रूपए ही इन्वेस्ट करेंगे जिससे आप इस प्रोडक्ट के 10 यूनिट्स के हिस्सेदार बन जायेंगे |

अब मान लीजिये कुछ महीनो बाद प्रोडक्ट की कीमत 100 रूपए से बढ़कर 1000 रूपए हो गयी तो फिर आप 10 यूनिट्स के हिस्सेदार तो है ही, शुरुआत में 10 यूनिट्स के हिसाब से आपने अपने 10 रुपये उस प्रोडक्ट में लगाये और अब 1000 के हिसाब से 10 यूनिट्स का अनुपात लगाये तो आप अब 100 के मालिक हो गए यहाँ आपने गौर किया होगा की यूनिट्स उतनी ही है परन्तु कीमत बढ़ गयी और आपका 90 रूपए का फायदा हो गया |

तो अब आप जान गए होंगे की म्यूच्यूअल फण्ड क्या है और ये कैसे काम करता है यदि आप इसमें पैसा लगाना चाहते है तो सबसे पहले सभी दस्तावेज़ और फंड्स से जुडी जानकारी एकत्रित कर लें क्योकि इसमें रिस्क बहुत अधिक होता है |

Mutual Fund कितने प्रकार के होते है

म्यूच्यूअल फंड्स में निवेश करने के लिए यह जानना बहुत आवश्यकत है की वास्तव में म्यूच्यूअल फण्ड कितने प्रकार के होते है वैसे म्यूच्यूअल फण्ड को कई भागो में बांटा गया है
1. Open End Fund:- यह एक ऐसी योजना है जिसमे इन्वेस्टर किसी भी समय यूनिट्स को खरीद या बेच सकते है इसकी कोई भी निश्चित समय अवधि नहीं होती है | इस स्कीम में लिक्विडिटी यानि की तरलता रहती है म्यूच्यूअल फण्ड की Open End Fund के श्रेणी में डेब्ट फण्ड (Debt Fund), इक्विटी फण्ड (Equity Fund), लिक्विड फण्ड (Liquid Fund) और बैलेंस्ड फण्ड (Balanced Fund) आते है |

2. Close End Fund:- इस फण्ड में केवल योजना के शुरुआत में ही इन्वेस्टमेंट कर सकते है जब नया फण्ड ऑफर किया जाता है तभी निवेश कर सकते है क्लोज एंड फण्ड में तारीख पहले से निर्धारित होती है उस तारीख से पहले योजना से बाहर नहीं निकला जा सकता यह योजना में मुख्य रूप से दो प्रकार के फंड्स होते है कैपिटल प्रोटेक्शन फण्ड (Capital protection fund) और फिक्स्ड मैच्योरिटी प्लान (Fixed maturity plan) |     

3. Interval Fund:- यह फण्ड ओपन एंड फण्ड और क्लोज एंड फण्ड के मिले जुले फायदों के साथ आते है इन फण्ड को स्टॉक एक्सचेंज से ट्रेड किया जा सकता है |

Mutual Fund में लम्बे समय के लिए निवेश करने से आपको अधिक फायदा होगा क्योकि आपके द्वारा लगाये गए पैसो से ही और पैसा बनता जायेगा यदि आप सोच रहे है की आज आपने 1000 रुपये Mutual Fund में लगा दिए, तो आप अगले 10 या 12 दिन में 15000 कमा लेंगे ऐसा नहीं है आपको फायेदा तभी होगा जब आप लम्बे समय के लिए निवेश करेंगे |

तो दोस्तों अब आप समझ गए होंगे की म्यूच्यूअल फण्ड क्या है और कितने प्रकार के होते है Mutual Fund में निवेश करने से पहले दस्तावेज़ को अच्छी तरह से पढ़ ले उसके बाद ही निवेश करे हम उम्मीद करते है आपको यह पोस्ट जरुर पसंद आई होगी |

Read also :-



Mutual Fund Kya Hai कितने प्रकार के होते है Mutual Fund Kya Hai कितने प्रकार के होते है Reviewed by Admin on May 29, 2018 Rating: 5

No comments:

Powered by Blogger.